दिल्ली सलतनन -मध्यकालीन इतिहास Main Points - latestgovtsjobs.com

latestgovtsjobs.com

latest jobs||Results||Admit Card||

दिल्ली सलतनन -मध्यकालीन इतिहास Main Points

दिल्ली सलतनन -मध्यकालीन इतिहास Main Points

दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास 



दिल्ली सलतनन के अंदर 5 राजबंश आत्ते है जो की इस प्रकार है :-
  1. गुलाम वंश 
  1. खिलजी वंश 
  1. तुगलक वंश 
  1. सयद वंश 
  1. लोदी वंश 

1 .  गुलाम वंश (1206 -1290 )(दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास)
 :-


गुलाम वंश में 5 मुख्य शासक थे। सबसे पहले कुतुबद्दीन एवेक उसके बाद इलूस्टीन उसके बाद रजिया सुल्तान उसके बाद बलबन और अंतिम शासक समुदीन कैमुर्स थे आईये इनके बारे में विस्तार से पढ़े -
i ) कुतुबद्दीन एवेक:-                                 
  • इनका शासन 1206 -1210 तक रहा था। 
  • कुतबमीनार का निर्माण कार्य इन्होने ने ही प्रारम्भ किया था 
  • इन्होने भारत की प्रथम मस्जिद कुवैत -उल -इस्लाम दिल्ली में और अढिये दिन का झोपड़ा अजमेर में बनवाया था। 
  • इनकी मृत्यु पोलो खेलते हुए घोड़े  गिरकर हुए थी। 
  • इनको लाख बख्श वी कहा जाता था। 
ii ) इलूस्टीन(1210 -1236 ):-
  • इन्होने  कुतबमीनार  का निर्माण कार्य पूरा किया था। 
  • इक्ता ब्यबस्ता शुरू की 
  • चांदी में टंका और तांबे के जीतल की शुरुआत 
iii ) रजिया सुल्तान(1236 -1240 ) :-
  • प्रथम और अंतिम महिला शासक 
  • इल्तुमिश  एक पुत्र बहरामशाह ने रजिया को हराकर उसका बध कर दिया था 
iv ) बलबन (1266 -1286 ):-
  • नौरोज की शरुआत 
  • इनके दरबार में फ़ारसी के प्रशिद कवि आमिर खुशरो और आमिर हसन रहते थे। 
v ) समुदीन कैमुर्स :-
  • यह इस वंश के अंतिम शासक थे। 
2 . खिलजी वंश(
दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास) :-


इस वंश में मुख्य दो शासक थे।
i ) जलालुद्दीन फ़िरोज़ खिलजी (1290 -1296 ):-
  •    यह  सलतनन का पहला शासक था जिसका हिन्दू जनता के पार्टी उदार दर्ष्टिकोण रहा था   
  • इनकी हत्या इनके भतीजे अलाउदीन खिलजी ने की थी 
ii ) अलाउदीन खिलजी (1296 -1316 ):-
  • यह दिल्ली सलतत्नन का पहला शासक था जिसने दक्षिण भारत पर विजय पताका फहरायी 
  • इसे दूसरा सिकंदर बी कहा जाता था। 
  • इसने स्थायी सेना घटित की और उन्हें नकद बेतन देने की शरुआत की थी। 
3 ) तुगलक वंश (1320 -1414 )(दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास):-


                                                                    इस वंश में 4 मुख्य शासक थे जो  प्रकार है :-
i ) गायुसदिन तुगलक(1320 -1325 ) :-
  • इसने दिल्ली सलतनन में एक नवीन राजवंश  स्थापना की थी। 
  • इसने  दिल्ली के पास तुगलकवाद नामक शहर बसाया था और इसे अपनी राजधानी बनाया। 
ii )मोहमद बिन तुगलक (1325 -1351 ):-
  • इसे इतिहास का बुदिमान मूर्ख शासक बी कहा जाता है। 
  • इसने दीवान -ए -कोही की स्थापना की 
  • 1334 में मोरको का प्रशिद्ध यात्री इब्नबतुत्ता भारत आया। 
iii ) फिरोज शाह तुगलक (1351 -1388 ):-
  • इसने दीवान -ए -बन्दगान और दीवान --ए -खरैत की सस्थापना की। 
  • इसने फ़ातिहात  ए -फ़िरोज़शाही नाम से अपनी आत्मकथा लिखी। 
  • इसने बहृमीणो पर जजिया लागू किआ 
  • इसने 5 बड़ी नहरों का निर्माण किआ। 
iv) नसुरुद्दीन महमूद :-
  • इसके शासनकाल में तैमूर लंग ने भारत पर अकर्मण किआ था। 
  • यह तुगलक वंश का अंतिम शासक था। 
4 ) सैयद वंश (
दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास):-

  • इस वंश का संस्थापक खिज खा था 
  • इस वंश पर केवल खिज खा ने ही शासन किया था। 

5 )लोदी वंश (
दिल्ली  सलतनन -मध्यकालीन इतिहास):-


लोदी वंश के मुख्या तीन शासक थे आइये उनके बारे में जानते है -
i ) बहलोल लोदी (1451 -1489 ):-
  • इस वंश  स्थापना इनहोने ही की थी 
  • दिल्ली सलतनन में शासन करने वाला यह प्रथम अफ़ग़ान बंश था। 
ii )सिकंदर लोदी (1489 -1517 ):-
  • यह लोदी बंश का सर्बश्रेष्ठ शासक था। 
  • इसने आगरा शहर  स्थापना की थी 
  • यह गुलरुखी उपनाम से फ़ारसी में किबताये लिखता था

iii ) इब्राहिम लोदी(1517 -1526 ) :-
  • यह दिल्ली सलतनन और लोदी वंश का अंतिम शासक था 
  • इसे 1526 में पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर  हरया था और मारा गया था 


No comments:

Post a Comment